बीपीसीएल को खरीदने की प्रबल दावेदार बनी ” वेदांता “

 

सरकार भारत पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड ( BPCL ) में 52.98 फीसदी की हिस्सेदारी बेच रही है. इसके लिए सरकार ने बोलियां आंमत्रित की है. इस फैसले से सरकार के खजाने में 45 हजार करोड़ रुपए आ सकते हैं. इस बोली के लिए देश की दिग्गज कंपनी वेदांता ने रुचि दिखाई है. वेदांता ने इस विनिवेश में 59 हजार करोड़ रुपए की बोली लगाई है. अगर वेदांता की बोली सफल होती है तो वो सरकारी तेल कंपनी बीपीसीएल में 52.98 फीसदी की हिस्सेदार हो जाएगी.

 

खनन क्षेत्र की दिग्गज कंपनी वेदांता ग्रुप की इस बोली के बाद कंपनी को बीपीसीएल का सबसे बड़ा दावेदार माना जा रहा है. लेकिन बात आती है फंड एलोकेशन की यानी कंपनी इतना बड़ा फंड जुटाएगी कैसे. जानकारो के मुताबिक कंपनी इस हिस्सेदारी के लिए शेयर बाजार और डेट से रकम जुटाएगी. वहीं वेदांता ने कर्ज लेने के लिए कई बैंकों के साथ बात शुरू की है.

 

Related Articles