हाईकोर्ट ने पूर्व एसपी महोबा मणिलाल पाटीदार की याचिका को किया ख़ारिज

प्रयागराज. भ्रष्टाचार के आरोप में निलंबित किए गए महोबा के पूर्व एसपी मणिलाल पाटीदार को इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) से बड़ा झटका लगा है. हाईकोर्ट ने ठेकेदार से रंगदारी मांगने के आरोपी महोबा के निलंबित एसपी मणिलाल पाटीदार (Manilal Patidar) को कोई राहत देने से इंकार करते हुए याचिका खारिज कर दी है.

याचिका में उन्होंने गिरफ्तारी पर रोक लगाने और अपने खिलाफ दर्ज एफआईआर को रद्द करने की मांग की थी. कोर्ट से याचिका खारिज (Petition Dismissed) होने के बाद अब निलम्बित आईपीएस पाटीदार की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं. हालांकि, कोर्ट ने याची आईपीएस मणिलाल पाटीदार को अग्रिम जमानत अर्जी दाखिल करने की छूट दी है.
यह आदेश चीफ जस्टिस गोविंद माथुर और जस्टिस सिद्धार्थ वर्मा की डिवीजन बेंच ने मणिलाल पाटीदार की याचिका पर सुनवाई के बाद दिया है.

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दर्ज प्राथमिकी पर हस्तक्षेप करने से इंकार करते हुए पूर्व एसपी महोबा को विवेचना में सहयोग करने को कहा है. गौरतलब है कि एक ठेकेदार इंद्र कांत तिवारी ने एसपी महोबा पर छह लाख रुपये रंगदारी मागने का आरोप लगाते हुए शिकायत की थी. ठेकेदार शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं हुई और एसपी द्वारा उसे ही परेशान किया जाने लगा. एक दिन ठेकेदार इंद्र कांत तिवारी की लाश कार में मिली और सिर में गोली लगी थी जिसको लेकर क्षेत्र में बवाल भी हुआ था.

कोर्ट ने हस्तक्षेप करने से इंकार करते हुए याचिका खारिज कर दी है

हत्या के आरोप में महोबा कोतवाली में 10 सितम्बर को एफआईआर दर्ज करायी गयी. मामले की जांच एसआईटी ने की. जांच में हत्या के बजाय अपने हाथ से गोली मार कर आत्महत्या का केस पाया गया. भ्रष्टाचार के आरोप में एसपी को निलंबित कर दिया गया है. मामले में विभागीय जांच चल रही है. एसपी ने आपराधिक मामले में गिरफ्तारी से बचने के लिए हाईकोर्ट की शरण ली थी. लेकिन कोर्ट ने हस्तक्षेप करने से इंकार करते हुए याचिका खारिज कर दी

 

Related Articles