लोन मोरोटोरियम की सुनवाई फिर आगे बढ़ी , सुप्रीम कोर्ट ने कहा अगली सुनवाई फाइनल होगी

दिल्ली : लोन मोरोटोरियम को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई एक बार फिर से टल गई है. सुप्रीम कोर्ट ने आज सुनवाई करते हुए कहा की मामले को आखिरी बार टाला जा रहा है. और अगली बार मामले की सभी पार्टियां पूरी तैयारी के साथ आएं.

साथ ही कोर्ट ने कहा कि तब तक 31 अगस्त तक NPA ना हुए लोन डिफॉल्टरों को NPA घोषित ना करने अंतरिम आदेश जारी रहेगा. सुप्रीम कोर्ट ने जवाब दाखिल करने के लिए दो हफ्ते दिए.

उच्चतम स्तर पर विचार हो रहा है

सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार ने कोर्ट से कहा, उच्चतम स्तर पर विचार हो रहा है. राहत के लिए बैंकों और अन्य हितधारकों के परामर्श में दो या तीन दौर की बैठक हो चुकी है और चिंताओं की जांच की जा रही है. केंद्र ने दो हफ्ते का समय मांगा था इस पर कोर्ट ने पूछा था कि दो हफ्ते में क्या होने वाला है? आपको विभिन्न क्षेत्रों के लिए कुछ ठोस करना होगा. वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए मामले की सुनवाई कर रहे जस्टिस अशोक भूषण, आर सुभाष रेड्डी और एम आर शाह की तीन जजों की बेंच सुनवाई की.

 

ब्याज पर ब्याज वसूल रहे बैंक

सुप्रीम कोर्ट ने रिजर्व बैंक से कंपाउंड इंटरेस्ट यानि ब्याज पर ब्याज वसूलने और मोरेटोरियमे के दौरान पीनल इंटरेस्ट (penal interest) लगाने पर भी जवाब मांगा है. सुप्रीम कोर्ट में अलग अलग सेक्टर्स की ओर से दलीलें रखी जा चुकी हैं. सरकार को आज अपना जवाब आज दाखिल करना था लेकिन सरकार की तरफ से और समय माँगा गया है. सरकार अपने जवाब में कुछ दिन पहले आई कामत रिपोर्ट का भी जिक्र कर सकती है. कामत की रिपोर्ट में 26 सेक्टर्स की लोन रीस्ट्रक्चरिंग की बात कही गई है.

2 साल तक बढ़ा सकते हैं मोरेटोरियम!

आपको बता दें कि सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि लोन चुकाने में मिली मोहलत की अवधि यानि मोरेटोरियम को 2 साल तक बढ़ाया जा सकता है

 

Show More

Related Articles