प्रेम-प्रसंग मे हुई हत्या को आत्महत्या का रूप देने मे आरोपी संग लगी पुलिस

प्रेम-प्रसंग मे हुई हत्या को आत्महत्या का रूप देने मे आरोपी संग लगी पुलिस
————————————-


सुलतानपुर/ अखंडनगर: प्रेम प्रसंग मे हुई हत्या को आरोपी संग पुलिस आत्महत्या का रूप दे रही है विधवा माँ पति गवाने के बाद बेटे से भी हाथ धो बैठी आरोपी के खिलाफ आज तक नहीं हो सकी FIR दर्ज विधवा माँ न्याय के लिए दरदर भटक राही है, FIR दर्ज कराने के लिए पुलिस महानिरीक्षक अयोध्या मण्डल अयोध्या से लगायी गुहार|
मामला थाना अखंडनगर ग्राम-पौधनरामपुर का है विधवा इंद्रावती के बेटे का प्रेम-प्रसंग अनिलपाल की बेटी से काफ़ी दिनों से चल रहा था जो की घरवालो को राश नहीं आ रहा था| इंद्रावती का आरोप है की अनिलपाल, मनीषपाल आदि के द्वारा मेरे बेटे बसंतलाल को घर ले जाकर हत्या की गयी और आँगन मे गाड़ दिया गया,घर से बदबू आने व अपने को फसता देख मेरे बेटे की लाश को ले जाकर जंगल मे पेड़ से लटका दिया गया| गाँव के लोगो से जंगल मे लाश होने की जानकारी होने पर देखा गया तो बेटे बसंतलाल की लाश पेड़ से लटकी मिली| बेटे बसंतलाल के गायब होने की सूचना पुलिस को दी गयी थी तब भी कोई कार्यवाही नहीं की गयी थी, पुलिस के द्वारा पहुंचकर लाश को उतरवाकर पोस्मार्टम करवा दिया गया किन्तु आरोपी को बचाने के चक्कर मे विधवा इंद्रावती की FIR दर्ज नहीं हो सकी है|
पुलिस के इस रवये से आहात हो चुकी इंद्रावती का कहना है की थाने पर मेरी सुनी नहीं जा राही मेरे बेटे के आरोपी खुलेआम घूम रहे है, FIR तक थाने मे दर्ज नहीं हो सकी है, इसलिए न्याय के लिए पुलिस अधीक्षक के यहाँ मैंने प्रर्थना पत्र दिया गया अभी तक कुछ नहीं हो सका है, इंद्रावती का कहना है की मै कहाँ जाऊ कोई सहारा नहीं है जिससे न्याय मिल सके| पुलिस आरोपी को बचाने के लिए हत्या को आत्महत्या का रूप दे रही है, पुलिस के इस रवये से पुलिस पर बड़ा सवाल उठ रहा है की क्या निर्बल, असहाय को जीने का अधिकार नहीं क्या? अब देखना यह है की विधवा इंद्रावती की FIR दर्ज होती है या पुलिस, आरोपी अपने मनसूबे मे कामयाब हो जाते है, न्याय के लिए विधवा भटकती ही रहेगी है|

Related Articles