स्वच्छ सर्वेक्षण में UP देश में अव्वल

लखनऊः राष्ट्रीय स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में उत्तर प्रदेश की 19 निकायों ने विभिन्न श्रेणियों में अच्छे प्रदर्शन के बूते राष्ट्रीय स्तर पर सम्मान पाने वाले निकायों में अपना स्थान बनाया है। कोविड 19 के कारण बहुप्रतीक्षित स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 का परिणाम आज आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय ने घोषित कर दिया है।

आधिकारिक प्रवक्ता ने गुरूवार को बताया कि स्वच्छ सर्वेक्षण के परिणाम में उत्तर प्रदेश देश में सर्वाधिक पुरस्कार पाने वाला राज्य है। प्रदेश में दो कैंट क्षेत्र समेत 19 नगर निकायों को यह सम्मान मिला जबकि शीर्ष 12 अवाडर में से दो उप्र को मिले। आज घोषित परिणाम में देश के चुने हुए 12 शहरों को पुरस्कृत किया गया और उक्त कैटेगरी में राज्य के दो नगर निगमों वाराणसी एवं शाहजहॉपुर के अलावा प्रदेश के अन्य 17 निकाय जो लखनऊ, फिरोजाबाद, कन्नौज, चुनार, गंगाघाट, आवागढ़, मेरठ कैण्ट, गजरौला, मुरादनगर, स्याना, पलियाकला, मल्लावां, बरूआसागर, बकेवर, बलदेव, अछलदा, मथुरा कैण्ट को सम्मानित किया गया।

उल्लेखनीय है कि स्वच्छ सर्वेक्षण प्रतियोगिता अखिल भारतीय स्तर पर प्रत्येक वर्ष आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय द्वारा आयोजित करायी जाती है और पिछले तीन सालों से राज्य द्वारा सतत रूप से उत्तरोतर प्रगति की गयी है। जहां वर्ष 2018 में राज्य की तीन निकाय और वर्ष 2019 में 14 निकायों को सम्मान मिला था, वहीं इस वर्ष 2020 के सर्वेक्षण परिणाम में यह संख्या बढ़ कर 19 हो गयी है।

स्वच्छ भारत मिशन (नगरीय) के अन्तर्गत प्रदेश ने महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल की हैं। व्यक्तिगत शौचालयों का लक्ष्य शत-प्रतिशत पूर्ण कर लिया गया है और लगभग 60,000 सीटों के सामुदायिक/सार्वजनिक शौचालय का निर्माण कराया गया है। सभी नगरीय निकायों में महिलाओं के लिये विषेष रूप से पिंक शौचालय का निर्माण हो चुका है

 

Related Articles