अमेरिका में लार से होने वाले Corona टेस्ट को मंजूरी, बेहद आसान और कम खर्चीली

अमेरिका में लार से होने वाले Corona टेस्ट को मंजूरी, बेहद आसान और कम खर्चीली है यह टेस्टिंग

दुनियाभर में कोरोनावायरस संक्रमण (Coronavirus) के 2.15 करोड़ से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं. बीते दिन पूरी दुनिया में 2.47 लाख नए मामले आए और 5,140 लोगों की जान चली गई. संक्रमण फैलने की रफ्तार को देखते हुए टेस्टिंग में भी तेजी लाने के लगातार प्रयास किए जा रहे हैं.

इसी कड़ी में अमेरिकी स्वास्थ्य संबंधी निगरानी संस्था (US Watchdog Agency) ने इमरजेंसी में कोरोनावायरस संक्रमण का पता लगाने के लिए लार के इस्तेमाल से होने वाली नई जांच के प्रयोग करने की मंजूरी दे दी है. शोधकर्ताओं ने बताया कि यह नई जांच पद्धति क्लीनिकल लैब्स के पास उपलब्ध करवा दी गई है.

“ज्यादा से ज्यादा लोगों के बीच तेजी से टेस्ट”

US फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) के कमिश्नर स्टीफन हैन (Stephen Hahn) ने कहा कि संक्रमण को रोकने में सेलिवा बेस्ड टेस्टिंग (Saliva Based Testing) को एक गेम चेंजर के तौर पर भी देखा जा सकता है क्योंकि इससे कम समय में ज्यादा से ज्यादा लोगों के बीच तेजी से टेस्ट किए जा सकते हैं. उन्होंने कहा कि लार आधारित नई जांच से हमारी कोरोना टेस्ट करने की कैपेसिटी बढ़ेगी.

सरल और कम खर्चीला है सेलिवा डायरेक्ट

इस नई जांच को सेलिवा डायरेक्ट (Saliva Direct) के नाम से जाना जाता है. इसे राष्ट्रीय बास्केटबॉल एसोसिएशन (NBA) के खिलाड़ियों और कर्मचारियों के कोरोना टेस्ट करने वाले कार्यक्रम के जरिए मान्य किया गया है. संक्रमण का पता लगाने वाली पारंपरिक विधियों की तुलना में यह टेस्ट सरल और कम खर्चीला होता है. इसे NP स्वैबिंग के तौर पर भी जाना जाता है क्योंकि इसके नतीजे इससे काफी-कुछ मिलते-जुलते हैं.

Related Articles