जियो चला बीएसएनएल की राह कुतुबपुर टावर का नेटवर्क हुआ ध्वस्त

जियो चला बीएसएनएल की राह कुतुबपुर टावर का नेटवर्क हुआ ध्वस्त

ऽ तीन दिन से पूरी तरह ध्वस्त जियो नेटवर्क से ग्राहकों को हो रहा मोहभंग
ऽ जियो नेटवर्क न होने से आनलाइन शिक्षण प्रशिक्षण हो रहा बाधित
फोटो-02 कुतुबपुर में लगा जियो का टावर
दूबेपुर-सुलतानपुर। केन्द्र में भाजपा की सरकार बनने के बाद जियो मोबाइल सेवा लांच हुई। पहले तो ग्राहकों को कम्पनी द्वारा लालीपाप दिया गया। फ्री डाटा देकर ग्राहकों को लुभाने के बाद जब करोड़ों ग्राहक बन गये तब जियो को मुनाफा दिखने लगा। उसके बाद जियो ने अपने पैक के अलावा अन्य नेटवर्क पर बात करने का भी चार्ज लेने लगा। फिलहाल जियो की सेवाओं की तरफ ग्राहक मुड़े। जिसका परिणाम यह हुआ कि सरकारी कम्पनी बीएसएनएल की हालत खस्ताहाल हो गयी। बीएसएनएल मोबाइल नेटवर्क के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में लगे टावरों में जब तक बिजली रहती है तब तक चलता है। जनरेटर चलाने के लिए मिलने वाला डीजल बेचने के आरोप उसी के कर्मचारियों पर लगने लगे। जिससे बिजली न रहने पर मोबाइल सेवाएं पूरी तरह बाधित हो जाया करती हैं। यही हाल अब जियो का भी हो गया। बीएसएनएल के पदचिन्हों पर जियो भी चल पड़ा है।
दूबेपुर ब्लाक के दक्षिणी छोेर पर स्थित कुतुबपुर गांव में जियो कम्पनी का मोबाइल टावर लगा है जो पिछले वर्ष से चालू हुआ। शुरूआत में तो जियो का नेटवर्क अच्छा चला लेकिन धीरे धीरे उस टावर से खराब नेटवर्क मिलने की शिकायतें आने लगी। संचार क्रान्ति के इस दौर में जहां सब कुछ आनलाइन हो रहा है तो वहीं मोबाइल कम्पनी के टावर भी दगा दे रहे हैं। इस समय जहां स्कूली बच्चों की शिक्षा, शिक्षकों का प्रशिक्षण, स्कूलों के शिक्षकों की उपस्थिति व सूचनाओं का आदान प्रदान आनलाइन हो रहा है उस समय मोबाइल नेटवर्क का पूरी तरह से ध्वस्त हो गया है। अभी तीन दिन पहले की स्थिति यह थी कि प्रतिदिन रात में नेटवर्क का सिग्नल एक दो प्वाइण्ट ही रहता था। यदा कदा तो पूरी तरह गायब हो जाता था। यही हाल दिन में भी रहता था। दिन में भी नेटवर्क सिग्नल फुल रहता था लेकिन एक दो बार घण्टे घण्टे भर के लिए गायब हो जाया करता था। लेकिन रात में वहीं नेटवर्क का सिग्नल एक दो प्वाइण्ट ही मोबाइल में दिखाई देता था। लेकिन बीते तीन चार दिन से पूरी तरह जियो मोबाइल नेटवर्क का सिग्नल कुतुबपुर टावर से गायब है। जिससे ग्राहकों में बड़ी बेचैनी देखी जा रही है। परीक्षाओं की आनलाइन तैयारी करने वाले प्रतियोगी छात्रों में निराशा दिख रही है। उपभोक्तओं की हालत सांप छंछूदर जैसी हो गयी है। जियो का पैक ले चुके हैं किन्तु उसका उपभोग नहीं कर पा रहे हैं। जिससे कुतुबपुर के टावर क्षेत्र. में आने वाले उपभोक्ताओं का जियो से मोहभंग हो रहा है और दूसरे नेटवर्क का सहारा लेने की सोचने लगे हैं।

 

Related Articles